सुभाष चंद्रा ने मांगी निवेशकों से माफी

सुभाष चंद्रा

ज़ी और एस्सेल ग्रुप के चेयरमैन सुभाष चंद्रा ने माना है कि कंपनी की माली हालत नाजुक है। एक चिट्ठी में सुभाष चंद्रा ने कहा है कि समय पर कर्ज नहीं चुका पाने के लिए वो कर्ज देने वालों से माफी मांगते हैं। हालांकि उन्होंने भरोसा दिलाया कि वो हर किसी का एक एक पैसा वापस चुकाने के लिए हर संभव कदम उठाएंगे। कर्ज चुकाने में कितना वक्त लगेगा ये कहना मुश्किल है।

ज़ी – एस्सेल ग्रुप

उन्होंने माना कि एस्सेल इंफ्रा में नीलामी के दौरान उन्होंने कुछ गलतियां की हैं। डीटूएच का सौदा काफी महंगा पड़ा। परिवार में बंटवारे के बाद कारोबार की योजना काफी सफल नहीं रही। आईएलएंडएफएस मामला सामने आने के बाद और हालात खराब हुए हैं। उन्होंने कर्जदारों को तब तक भरोसा रखने को कहा जब तक कि जी एंटरटेनमेंट बेचने का सौदा पूरा नहीं हो जाता। इसके एस्सेल ग्रुप के शेयरों में भारी गिरावट देखी गई। एस्सेल ग्रुप का करीब 14 हजार करोड़ का मार्केट कैप साफ हो गया।

नित्यांक इंफ्रा पावर

जी एंटरटेनमेंट ने कुछ और सफाई दी है। कंपनी ने अपने बयान में कहा है कि किसी भी गलत ट्रांजैक्शन से उनका कोई लेना देना नहीं है। नित्यांक इंफ्रा पावर का एस्सेल ग्रुप से कोई संबंध नहीं है। नोटबंदी से जुड़े सवाल नित्यांक इंफ्रा से पूछे गए थे। एसएफआईओ ने एस्सेल ग्रुप कंपनियों से जुलाई-अगस्त में अपना पक्ष रखने को कहा था।

साभार: आवाज़ कारोबार से.

About SMEsamadhan

Check Also

राष्ट्रीय एकीकृत लॉजिस्टिक्स योजना पर कार्यशाला आयोजित

लॉजिस्टिक्स प्रदर्शन सूचकांक विश्व बैंक के लॉजिस्टिक्स प्रदर्शन सूचकांक में भारत की रैंकिंग में उल्लेखनीय …