Startup Ranking of States.

स्टार्टअप रैंकिंग 2018 की घोषणा – गुजरात सर्वश्रेष्ठ

औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग ने स्टार्टअप रैंकिंग (Startup Ranking) 2018 की घोषणा की

औद्योगिक नीति एवं संवर्धन विभाग (DIPP) ने स्टार्टअप (Startup) रैंकिंग 2018 की आज घोषणा की। डीआईपीपी ने स्टार्टअप रैंकिंग की शुरुआत जनवरी, 2016 में  स्टार्टअप इंडिया कार्यक्रम की शुरुआत के साथ ही की थी।

मापदण्ड

स्टार्टअप रैंकिंग की अवधारणा के दौरान राज्यों को विभिन्न श्रेणियों के आधार पर रैंकिंग प्रदान की जाती है। रैंकिंग श्रेणियों को विभिन्न मापदण्डों के आधार पर परखा जाता है। और उन्हीं के अनुरूप इन राज्यों को रैंकिंग प्रदान की जाती है। स्टार्टअप रैंकिंग में स्टार्टअप नीति, इन्क्यूबेशन केंद्रों की स्थिति, नवाचार को रोपने के लिए उपयुक्त माहौल को शामिल किया जाता है। इसके अतिरिक्त नवाचार स्केलअप, नियामक परिवर्तन, सार्वजानिक खरीद प्रोत्साहन, संचार इत्यादि मापदण्ड भी इसमें शामिल हैं। उत्तर पश्चिम एवं पहाड़ी राज्यों को इसमें अलग श्रेणी में रखा जाता है। रैंकिंग के इन मापदण्डों में पिछले वर्ष की तुलना में आये सुधार को आधार बनाया जाता है।

श्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले राज्य (Best Performer State) के रूप में इस वर्ष स्टार्टअप रैंकिंग में गुजरात (Gujarat) रहा। जबकि शीर्ष प्रदर्शन करने वाले राज्यों (Top Performer States) में इस वर्ष कर्नाटका, केरल, ओडिशा एवं राजस्थान रहे हैं।

नेतृत्व क्षमता (Leadership) के लिहाज से आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्य प्रदेश एवं तेलंगाना को स्टार्ट-अप रैंकिंग में सर्वश्रेष्ठ पाया गया। स्टार्टअप रैंकिंग में महत्वाकांक्षी नेतृत्व (Aspiring Leadership) की दृष्टि से हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखण्ड, उत्तर प्रदेश, एवं पश्चिम बंगाल को अग्रणी पाया गया।

अन्य राज्यों का प्रदर्शन

उभरते हुए राज्यों (Emerging States) के रूप में इस वर्ष स्टार्टअप रैंकिंग में असम, दिल्ली, गोवा, जम्मू एवं कश्मीर, महाराष्ट्र, पंजाब, तमिलनाडु एवं उत्तराखण्ड को सूचीबद्ध किया गया है। जबकि प्रारम्भिक (Beginners) राज्यों की श्रेणी में चंडीगढ़, मणिपुर, मिजोरम, नागालैण्ड, पुडुचेरी, सिक्किम एवं त्रिपुरा इस वर्ष शामिल हैं।

इस क्रम में राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों से 51अधिकारियों को भी चैम्पियन के रूप में चुना गया है। जिन्होंने अपने राज्यों में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र (Startup Ecosystem) के विकास में महत्वपूर्ण योगदान (Credible Contribution) दिया है।

स्टार्टअप रैंकिंग की इस अभ्यास प्रक्रिया का उद्देश्य राज्यों एवं केंद्र शासित में स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करना है। इस स्टार्टअप पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत करने के लिए उन्हें सक्रिय कदम उठाने के लिए प्रोत्साहित करना है। इस पद्धति का उद्देश्य राज्यों के मध्य सकारात्मक प्रथाओं को सीखना, साझा करना और उन्हें अपनाना है।

और क्या पढ़ना चाहते हैं आप यहाँ अपने इस पोर्टल www.smesamadhan.com पर हमें अवश्य लिखें. आप हमें लिख सकते हैं editor@SMEsamadhan.com या फिर sharma.maayank@yahoo.com पर ….

हमारे फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करें

हमारे ट्विटर Twitter पेज पर जाने के लिए यहाँ क्लिक करे

Reference: http://pib.nic.in/PressReleseDetail.aspx?PRID=1556782 

About SMEsamadhan

Check Also

राष्ट्रीय एकीकृत लॉजिस्टिक्स योजना पर कार्यशाला आयोजित

लॉजिस्टिक्स प्रदर्शन सूचकांक विश्व बैंक के लॉजिस्टिक्स प्रदर्शन सूचकांक में भारत की रैंकिंग में उल्लेखनीय …