सैंडबॉक्स-केयर ने चांदीवली में अपना तीसरा सेंटर लांच किया

सैंडबॉक्स केयर अब चांदीवली, अँधेरी ईस्ट में अपना एक नया डे-केयर सेंटर लेकर आ रहा है. वर्ष 2016 में प्रारम्भ हुई इस डे-केयर श्रृंखला ने रहेजा विहार, चांदीवली और पवई प्लाजा, हीरानंदानी में अपने सफल संचालन के बाद इस नए केंद्र की स्थापना की है. आगामी रविवार यानी 17 जून को इस नए डे-केयर सेंटर का उद्दघाटन बच्चों के लिए बहुत सारी फन एक्टिविटीज के साथ किया जाएगा. सैंडबॉक्स केयर का चांदीवली, अँधेरी ईस्ट में स्थित यह केंद्र 2500 स्क्वायर फीट के एरिया में योजनाबद्ध तरीके बनाया गया. केंद्र के इंटीरियर्स इत्यादि में भी इस बात का ध्यान रखा गया है कि इनका बच्चों की सीखने की क्षमता पर सकारात्मक प्रभाव पड़े.

सैंडबॉक्स केयर की स्थापना पूजा दास एवं अभीषा श्रीवास्तव नामक दो युवा महिला उद्यमिओं ने 2016 में की. इन दोनों युवतियां ने आई.आई.टी., मुंबई एवं आईएसबी, हैदराबाद से अपनी उच्च शिक्षा अर्जित की और उसके बाद सैंडबॉक्स के साथ छोटे बच्चों की शिक्षा दीक्षा और रख रखाव के इस उद्यम में कदम रखा. इन्होने अपनी इस परियोजना के लिए अहमदाबाद स्थित एकलव्य एजुकेशन फाउंडेशन के प्रोफेसर सुनील हांडा से भी मदद ली. एकलव्य फाउंडेशन गुजरात में पहले नंबर की रैंकिंग वाला शिक्षण संस्थान है, जबकि देश भर में इसकी तेरहवीं रैंकिंग है. एकलव्य फाउंडेशन से सैंडबॉक्स को प्रशिक्षण एवं अन्य क्षेत्रों में सहयोग प्राप्त हुआ, जिससे कि सैंडबॉक्स केयर का स्वप्न धरातल पर साकार हुआ.

सैंडबॉक्स केयर के आईडिया और इसकी स्थापना के सन्दर्भ बात करते हुए पूजा दास बताती हैं, महानगरों की बदलती लाइफस्टाइल और माँ – बाप दोनों के कैरियर ओरिएंटेड होने के कारण बच्चों का लालन पालन महानगरों में रहने वाले कामकाजी युगलों के लिए एक समस्या बनता जा रहा है. महानगरों में हमारे आस पास छोटे स्तरों पर चलाये जा रहे क्रेच अवश्य मिल जाते हैं, लेकिन वे पूर्ण समाधान प्रदान करने में सक्षम नहीं हैं. बस इसी समस्या के समाधान हेतु मैंने और अभीषा ने मिलकर 2016 में सैंडबॉक्स की स्थापना की.

सैंडबॉक्स मुंबई के एकाकी परिवारों में रहने वाले काम काजी व्यवसाईयों के बच्चों के आदर्श लालन पालन की संकल्पना के साथ सामने आया. सैंडबॉक्स शिशु देखभाल, बच्चों की देखभाल, स्कूल के बाद बच्चों की देखभाल, कॉर्पोरेट क्रेच एवं ऑन डिमांड बेबी सिटींग जैसे कार्यक्रम मुंबई के पवई में अपने इन केन्द्रों के माध्यम से चला रहा है.

सैंडबॉक्स के बारे में और अधिक बताते हुए, अभीषा श्रीवास्तव कहती हैं, आधुनिक एकाकी परिवारों वाली जीवन शैली और पेशेवर युगलों की प्रतिबद्धताओं के बीच बच्चे कहीं उपेक्षित न रह जाएँ इसीलिए सैंडबॉक्स यह समाधान लेकर आया है. बचपन के दौरान बच्चों में प्रतिकूल रूप से प्रभावित होने की सम्भावना अधिक रहती है, एक बच्चे का 90% दिमागी विकास 5 वर्ष तक ही होता है, अतः इस छोटी उम्र में उनकी तनिक भी उपेक्षा उनके सम्पूर्ण जीवन को प्रभावित कर सकती है. इस दौरान ही बच्चों में भाषा एवं ज्ञान संबंधी कौशल का भी विकास हो रहा होता है. अतः बचपन के महत्वपूर्ण चरण में बच्चों पर ध्यान दिया जाना आवश्यक है और इसीलिए सैंडबॉक्स सोमवार से शनिवार तक सुबह 8 बजे से शाम 8 बजे तक इन बच्चों के रख रखाव हेतु उपलब्ध रहता है.

सैंडबॉक्स बच्चों में सीखने के माहौल को लक्षित करते हुए, बच्चों के समग्र एवं सर्वांगीण विकास पर ध्यान देता है. सैंडबॉक्स ने इन बच्चों के लिए व्यवस्थित और वैज्ञानिक पाठ्यक्रम विकसित किया है, जो संज्ञानात्मक, सामाजिक-भावनात्मक भाषा, साक्षरता एवं शारीरिक विकास जैसे सभी पहलुओं पर केंद्रित है.

पूजा दास संस्थान में सिखाने के तरीकों के विषय में बात करते हुए बताती हैं, “सैंडबॉक्स में इन बच्चों का लालन पालन हमारी शर्तों पर नहीं, बल्कि यहाँ आने वाले बच्चों की शर्तों और उनकी आवश्यकता के अनुरूप होता है. हाल ही में मैटरनिटी बेनिफिट संशोधन बिल 2017 के बाद से कॉर्पोरेट जगत भी अपनी महिला प्रोफेशनल्स के प्रति काफी जागरूक हो गया है. हम खुद बहुत सारे कार्पोरेट ऑफिसेज में अपनी कॉर्पोरेट क्रेच सेवाएं प्रदान कर रहे हैं, इस सेवा से महिला प्रोफेशनल्स में अपने बच्चों की उपेक्षा होने का भय चला जाता है और उनकी कार्यक्षमता स्वयमेव ही बढ़ जाती है. दरअसल इन महिला प्रोफेशनल्स को एक फायदा अक्सर यह भी हो रहा है कि क्योंकि यह सेवा हम कॉर्पोरेट टाईअप द्वारा प्रदान कर रहे हैं तो यह खर्च उन्हें अधिकतर रिइम्बर्स भी हो जा रहा है, प्रोफेशनल्स और कम्पनी के बीच हम सुरक्षा के एक बाँध का निर्माण कर रहे हैं हम.”

तो अगर आप मुंबई में रहते हैं, तो आप सैंडबॉक्स डेकेयर में अपने बच्चे को बिना उसके विकास में अवरोध हुए बिंदास छोड़कर जा सकते हैं. तो आईये इस रविवार इनके चांदीवली, अँधेरी ईस्ट के नए सेंटर पर और देखिये कि कैसे ये दो युवा उद्यमी बच्चों के रख रखाव को नए ढंग से परिभाषित कर रही हैं.

अधिक जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए नंबर पर बात कर सकते हैं या उनकी वेबसाइट पर लॉग इन करें.

Venue – 401, Crystal Centre, Raheja Vihar, Chandivali, Andheri East, Mumbai – 400072

Contact – 9833171510 / 9820685186

कैसी लगी आपको उद्यमिता से जुड़ी हमारी यह कहानी, हमें जरूर लिखें. और क्या पढ़ना चाहते हैं आप उद्यमिता के इस मंच हमें अवश्य लिखें. संपर्क सूत्र editor@SMEsamadhan.com  …

 

About SMEsamadhan

Check Also

गवर्नमेंट ई-मार्किट – जीईएम पोर्टल पर राष्ट्रीय मिशन – सरकारी खरीद के आंकड़े

सार्वजानिक खरीद नीति को गति प्रदान करने के लिए जीईएम प्लेटफॉर्म पर राष्ट्रीय मिशन का …