भारत में रिटेल बाजार का रूपांतरण करेगा ईबाजार: विरल ठक्कर

#SMESAMADHAN में इस बार #eBzaar के संस्थापक #ViralThakker की कहानी उनकी ही ज़ुबानी.

एसएमई समाधान में इस बार ईबाजार के संस्थापक विरल ठक्कर की कहानी उनकी ही ज़ुबानी.

विरल ठक्कर

बचपन से ही मेरा बस एक ही सपना था, अपना खुद का व्यवसाय स्थापित करने का. अपने कैरिअर की शुरुआत मैंने कॉर्पोरेट जगत से की, मैंने अपने 13 वर्ष कॉर्पोरेट बैंकिंग जगत में बिताये और फिर इस अनुभव के साथ अपना खुद का व्यवसाय स्थापित करने की ओर बढ़ा.

भारत में बढ़ता इन्टरनेट उपयोग मुझे ऑनलाइन रिटेल की ओर बार बार आकर्षित कर रहा था, किराना व्यापार को भी मैं पिछले 20 वर्षों से देख ही रहा था क्योंकि वह हमारा पुश्तैनी व्यवसाय था. मैंने पहले किराना व्यवसाय की बारीकिओं को समझा माल की खरीद से लेकर, कैश काउंटर मैनेज करने, मुनाफा प्रबंधन, इन्वेंटरी प्रबंधन इत्यादि को समझा और फिर उसे ऑनलाइन रिटेल के साथ कैसे जोड़ना है इस पर काम किया.

देश की कुल 1.2 बिलियन आबादी में से 300 मिलियन लोग आज इन्टरनेट का उपयोग कर रहे हैं. देश भर में लगभग 40 मिलियन एसएमई इस क्षेत्र में शामिल हैं. रिटेल व्यवसाय के संगठन पर यदि गौर किया जाय तो इसका 98% हिस्सा आज भी छोटे व्यवसाईयों एवं असंगठित क्षेत्र किराना स्टोर्स के माध्यम से ही चलाया जा रहा है.

इस क्षेत्र में ईकॉमर्स के उदय से यह परिदृश्य अब तेजी के साथ बदल रहा है, ऑनलाइन रिटेल में अमेज़न, फ्लिपकार्ट, पेटीएम, बिग बास्केट, ग्रोफर्स, नेचर्स जैसे खिलाड़ी अरबों $ से अधिक का निवेश इस क्षेत्र में कर रहे हैं. खुदरा कारोबार के इस बड़े बाजार को तकनीकि की शक्ति से स्केलअप करने में ईकॉमर्स क्षेत्र जुटा हुआ है. परम्परागत किराना बाजार को ईकॉमर्स डिसरप्ट करते हुए आगे बढ़ रहा है, अब इस प्रतिस्पर्द्धा में किराना स्टोर्स अपने आपको कैसे बचायेंगे उसका जवाब उन्हें तकनीकि, अधिकतम सेवाओं एवं सुविधाओं में ही शायद मिल पायेगा. और इसी के लिए अस्तित्व में आया है ईबाजार, वर्चुअल दुनिया में भी आपका असल बाजार.

किराना स्टोर्स का एक पक्ष आज भी बहुत मजबूत है कि उनकी बुनियाद विश्वासनीयता की नींव पर खड़ी है, कभी कभी तो वे ग्राहकों को छोटे मोटे असुरक्षित उधार भी दे देते हैं, इनके लिए ग्राहक एक विस्तारित परिवार के सामान ही होता है, ग्राहक के साथ संबंधों का यह ताना बना ईकॉमर्स शॉप्स के पास उपलब्ध नहीं होता है. मेरा उद्देश्य इन किराना शॉप्स को मजबूती प्रदान करना था और यहीं से मेरे इस वेंचर ईबाजार का जन्म हुआ. ईबाजार इन किराना शॉप्स को जिन्होंने अपनी मजबूत गुडविल या साख बना रखी है उनको सिर्फ तकनीकि कमी की वजह से पीछे छूटा हुआ नहीं देखना चाहता है.

इन किराना दुकानों को मजबूती प्रदान करने के लिए ही हमने ईबाजार की स्थापना की. ईबाजार ग्राहकों को वर्चुअल साधनों द्वारा वास्तविक किराना दुकानों से खरीदारी की शक्ति प्रदान करता है. इस माध्यम से ग्राहक उचित गुणवत्ता वाले उत्पाद उचित मूल्य पर अपनी पसंद और जानपहचान वाली दुकान से सिर्फ एक फोन कॉल या ऑनलाइन प्राप्त कर सकता है. सबसे बड़ी बात यहाँ यही है कि ईबाजार पर आप असल दुकानों से सामान खरीद रहे होते हैं न की मात्र वर्चुअल दुकानों से. यहाँ सर्विस क्वालिटी, एक्सचेंज या अन्य सहायता भी सीधे असल दुकानों से प्राप्त होती है जो कि अन्य ऑनलाइन प्लेटफॉर्म्स के मुकाबले सुविधाजनक और कम समय लेने वाली होती है और विश्वसनीय तो है ही. यहाँ दूध, सब्जी, फल, फूल, केक, मांस, मछली, सम्पूर्ण किराना सामान इत्यादि उपलब्ध रहते हैं, जो आपकी रोजमर्रा की जरूरते हैं.

ये सभी ईबाजार शॉप्स अधिकतर आपके लिए सभी तरह का सामान उपलब्ध कराते हैं. शादी पार्टीज के बड़े ऑर्डर्स भी लोग पास की दुकान ईबाजार से खरीदना पसंद कर रहे हैं. यहाँ ग्राहक बंधन का आप एक अलग स्तर पर अनुभव कर सकते हैं. यहाँ प्रत्येक ग्राहक को किराना शॉप का मालिक खुद अक्सर व्यक्तिगत रूप से जानता है. ईबाजार शॉप्स की शुरुआत हमने मुंबई, दिल्ली और सूरत से की है और इस नेटवर्क को हम लगातार बढ़ाने में जुटे हुए हैं. ईबाजार की अनुभवी कोर टीम में खुदरा बाजार, किराना, एग्री कमोडिटी, एफएमसीजी, फाइनेंशिअल मार्केट तथा शिक्षा जैसे क्षेत्रों से जुड़े हैं.

ईबाजार जल्द ही मुंबई के कुछ क्लस्टर्स में अपनी सेवाएं लॉन्च करने जा रहा है, अगले 12 से 18 महीनों में हम मुंबई को पूरी तरह से कवर करना चाहते हैं. हम व्यापक रूप से खुदरा बाजार का रूपांतरण करना चाहते हैं और अपने इस एजेंडे को पूरा करने के लिए हम कई तकनीकी उत्पादों को भी लॉन्च करना चाहते हैं. हम किराना बाजार का सबसे पसंदीदा ब्रांड बनना चाहते हैं. हमारा मिशन अगले कुछ वर्षों में लाखों ग्राहकों तक अपनी पहुँच बनाना है.

कैसी लगी आपको उद्यमिता से जुड़ी हमारी यह कहानी, हमें जरूर लिखें. और क्या पढ़ना चाहते हैं आप उद्यमिता के इस मंच हमें अवश्य लिखें. संपर्क सूत्र editor@SMEsamadhan.com  …

About SMEsamadhan

Check Also

मुफ्तखोरी नहीं उन्हें उनका स्वाभिमान दीजिये

चुनावों में दिखी नाराजगी के बाद केंद्र सरकार जल्द ही किसानों के लिए कर्ज माफी …