“सर्वपूजा” अंतिम संस्कार का सम्पूर्ण सामान, बस एक फोन कॉल पर

आपकी हर आवश्यकता, हर इक्षा जब आज के डिजिटल ज़माने में जब ऑनलाइन पूर्ण हो रही है, तो यह भला कैसे न होती. “सर्वपूजा” लेकर आये हैं, “अंतिम संस्कार की सम्पूर्ण किट”, आपके अपने जो आपसे बिछुड़ चुके हैं, उनके अंतिम सम्मान, अंतिम संस्कार के लिए. सर्वपूजा की ये सेवाएं अभी मुंबई में ही सीमित हैं, क्योंकि अभी तो बस शुरुआत है, लेकिन जल्द ही वे इस सेवा या सर्वपूजा का दायरा बढ़ाने वाले हैं.

हितेन ध्रुव और नितेश मेहता नाम के दो उद्यमिओं ने मिलकर इस सेवा की स्थापना की है. इस सर्वपूजा किट में सभी 38 आवश्यक वस्तुएं, जो हिन्दू अंतिम संस्कार के लिए आवश्यक होती हैं उपलब्ध रहती हैं. फोल्डेबल बांस की बनी तिख्ती यानी स्ट्रेचर, गंगा जल, गाय का गोबर, दिए, मिटटी की मटकी, महिलाओं के कपड़े, श्रृंगार का सामान इत्यादि. महानगरों में इस प्रकार की सेवा की आवश्यकता सच में रही है, क्योंकि अक्सर यह देखा गया है, कि अगर आपका सोशल सर्किल बहुत मजबूत नहीं है, तो आप इन सामानों को इकठ्ठा करने में ही हैरान हो सकते हैं. लेकिन अब मुंबई में आप यह सम्पूर्ण किट ऑनलाइन या एक फोन कॉल करके मंगवा सकते हैं.

दरअसल, वैसे भी देखा जाय तो यह स्थिति बड़ी नाजुक होती है, अपने प्रियजन से हमेशा के लिए विछोह की यह स्थिति, जब कि शायद ही कुछ करने का मन करे, यह सब सामान एकत्र करने का त्रास और भी त्रासदीपूर्ण माहौल बना देता है. ऐसी ही परेशानिओं को “सर्वपूजा” ने समझा है और लेकर आये हैं यह समाधान.

हिन्दू धर्म में विभिन्न सम्प्रदायों और मान्यताओं के अनुरूप इस अंतिम संस्कार किट की आवश्यकताएं भी अलग अलग हैं, इस विषय में सर्वपूजा के नितेश मेहता कहते हैं, “अभी यह शुरुआत है, अभी तो हम एक मानकीकृत या स्टैंडरईसड किट जो अधिकतर लोगों द्वारा इस्तेमाल की जाती है, वही उपलब्ध करवा रहे हैं. हम अपनी भविष्य योजना पर कार्य कर रहे हैं और हम सभी की आवश्यकताओं के अनुरूप अनुकूलित या कस्टमाइसड किट भी लाने वाले हैं, जल्द ही हम सभी राज्यों एवं धर्मों के लिए सर्वपूजा किट की उपलब्धता करवाने वाले हैं.”

हितेन ध्रुव बताते हैं, कि कुछ महीनों पहले हमने पुणे से सर्वपूजा की शुरुआत की. सर्वपूजा अंतिम संस्कार किट हम 2,950 रुपयों में उपलब्ध करवा रहे हैं. जिसमें इस कार्य हेतु आवश्यक सभी सामग्रियां निहित हैं.

सर्वपूजा किट में इस्तेमाल किये गए बांस के स्ट्रेचर का बहुत महत्त्व बहुत अधिक है, इसे सोर्स करने में भी हमें काफी मशक्कत करनी पड़ी है. हमने इसे बाम्बू स्ट्रक्चर बनाने वाले सबसे बढ़िया लोगों में से एक से इसे बनवाया है. इस स्ट्रेचर में एक भी कील इत्यादि का इस्तेमाल नहीं किया गया है. इस स्ट्रेचर अथवा तिख्ती की सबसे बड़ी समस्या यह है कि प्रायः लोगों को इसे बाँधना नहीं आता है. इसके अतिरिक्त हमने देखा है कि मुंबई जैसे महानगरों में दुकानदारों के पास ये बांस इत्यादि रखने की जगह नहीं होती है और अक्सर देखा जाता है कि यह सब कुछ बारहों मास खुले आसमान के नीचे पड़ा रहता है. अक्सर इनमें बाम्बू पारा या बांस में लगने वाले कीड़े पड़ चुके होते हैं. इसे हम प्लास्टिक या मेटल का भी नहीं बनवा सकते थे क्योंकि वह भी हमारी हिन्दू मान्यता के अनुकूल नहीं होता. अतः इस समस्या के समाधान के लिए हमने इस बाम्बू तिख्ती का निर्माण करवाया जो कि फिट करने में भी बहुत आसान है और 2 से 3 मिनट में बन जाती है. इस पर 150 किलो तक का वजन उठाया जा सकता है. अतः हलके और भारी दोनों तरह के शरीरों के लिए उपयुक्त रहती है.”

उम्मीद की जा रही है कि यह सर्वपूजा अभियान या बिज़नेस प्लान काफी सफल होगा. इसके सफल होने की सम्भावना इसलिए भी है, क्योंकि देखा जाय तो आज के समय में युवाओं को इस सन्दर्भ में जानकारी लगभग न के बराबर होती है. ऊपर से यह 38 प्रकार के अलग अलग सामान कहाँ मिलेंगे अक्सर उन्हें मालुम भी नहीं होता है. अतः इस सर्वपूजा समाधान के सफल न होने का कोई कारण नहीं दिखता है.

___________________________

कैसी लगी आपको उद्यमिता से जुड़ी सर्वपूजा.कॉम की यह कहानी, हमें अवश्य लिखें, और क्या पढ़ना चाहते हैं आप यहाँ हमें अवश्य लिखें. संपर्क सूत्र editor@SMEsamadhan.com

About SMEsamadhan

Check Also

गवर्नमेंट ई-मार्किट – जीईएम पोर्टल पर राष्ट्रीय मिशन – सरकारी खरीद के आंकड़े

सार्वजानिक खरीद नीति को गति प्रदान करने के लिए जीईएम प्लेटफॉर्म पर राष्ट्रीय मिशन का …