स्वच्छ भारत मिशन का अभिन्न अंग बनता इलाहबाद का एक स्टार्टअप

“यदि आप परिवर्तन देखना चाहते हैं, तो आपको स्वयं भी उस परिवर्तन का हिस्सा बनना होगा”. यह सिद्ध कर रहा इलाहबाद जैसी जगह फलता फूलता एक स्टार्टअप “ग्रीन अमीगोस”. ग्रीन अमीगोस इलाहबाद स्थित एक स्टार्टअप कंपनी है, जो भारत सरकार द्वारा शुरू किये स्वच्छ भारत मिशन को आगे बढ़ाते हुए कार्य कर रहा है.

ग्रीन अमीगोस लोगों के बीच कचरे के प्रारंभिक स्तर पर अलगाव किये जाने एवं संग्रह का उपयोग करने को लेकर जागरूकता फैला रहा है. अभी फिलहाल यह स्टार्टअप कचरे के एक अनुभाग यानी पेपर वेस्टेज पर कार्य कर रहा है और इसी से अपने आपको खड़ा रखने का प्रयास कर रहा है.

ग्रीन अमीगोस के निदेशक अंशित पाठक बताते हैं कि, “इलाहबाद एक ऐसा शहर है जहाँ की व्यापारिक गतिविधियों पर यदि नज़र डाली जाय, तो यहाँ निर्माण या मैन्यूफैक्चरिंग एवं सेवा क्षेत्र अभी भी यहाँ काफी पीछे है और थोक एवं रिटेल विक्रय ही यहाँ के प्रमुख उद्यम हैं. अतः हमने रिटेल सेगमेंट यहाँ के रिटेल सेगमेंट को टारगेट किया है.”

ग्रीन अमीगोस के प्रमुख ग्राहकों में आईआईआईटी, इलाहबाद, विशाल मेगा मार्ट, मदन लाइफस्टाइल, जलान्स, वी-मार्ट, यूनिक बाजार, कैडबरी, श्रीराम डिपार्टमेंटल स्टोर, मोतीलाल एन्ड संस, सस्ता मार्ट एवं अनंत बाज़ार हैं. कम्पनी रेमंड, एडिडास, एरो, लिबर्टी, वैनहयूसन, लेनेवो तथा पतंजली जैसे लोकप्रिय ब्रांड्स को अपनी सेवाएं दे रही है. इसके अतिरिक्त अब शहर की हाउसिंग सोसाइटीज भी इनके राडार पर हैं.

ग्रीन अमीगोस के दूसरे निदेशक कमल आशीष बताते हैं, कि “सम्पूर्ण भारतवर्ष में सालाना लगभग 4 मिलियन टन पेपर वेस्टेज उत्सर्जन होता है और लगभग इतनी ही मात्रा विदेशों से आयात की जाती है. वैसे तो हमारा देश वेस्ट मैनेजमेंट के क्षेत्र में अभी भी काफी पीछे है, लेकिन हमारा मानना है कि जैसे जैसे इस क्षेत्र में जागरूकता बढ़ेगी वैसे वैसे हम इस क्षेत्र में भी आगे बढ़ेंगे. अगर हम तुलनात्मक रूप से विभिन्न देशों में कागज अपशिष्ट या पेपर वेस्ट मैनेजमेंट की प्रतिशत वसूली बात करें तो हम पायेंगे कि हम जर्मनी, स्वीडन, जापान, अमेरिका, इटली के बाद आते हैं. जर्मनी अपने यहाँ 73% पेपर वेस्ट को मैनेज अथवा रिसाइकिल कर देता जबकि हम आज भी केवल 27% पेपर वेस्ट को मैनेज अथवा रिसाइकिल कर पाते हैं.”

ग्रीन अमीगोस पेपर, पेपर बोर्ड एवं करोगेटेड बॉक्सेस के वेस्ट मैनेजमेंट हेतु उद्योगों के साथ मिलकर एक आपूर्ति श्रृंखला बनाते हुए कार्य कर रहा है. जहाँ तक भविष्य की योजनाओं की बात है तो यह स्टार्टअप वेस्ट उत्त्पन्न करने वाले अधिकतम व्यापारिओं एवं लोगों को अपनी सेवाएं प्रदान करना चाहते हैं, इस प्रकार के कचरे का रिसाइकिल करने वाले अधिकतम उद्यमों तक भी ये अपनी पहुँच बनाना चाहते हैं. इलाहाबाद में इस कचरे की अधिकतम  इन्वेंटरी प्रबंधन हेतु ग्रीन अमीगोस एक बड़े गोदाम की स्थापना का लक्ष्य भी रखता है. भारत सरकार के स्वच्छ भारत मिशन का हम अभिन्न अंग बनते हुए हम एक सामाजिक समाधान प्रदान करते देश, समाज, उद्यम एवं खुद को भी आगे बढ़ाना चाहते हैं.

www.greenamigos.co.in

_________________________

कैसी लगी आपको उद्यमिता से जुड़ी ग्रीनअमीगोस की यह कहानी, हमें अवश्य लिखें. आप सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यमिओं के इस पोर्टल SMEsamadhan.com और क्या पढ़ना चाहते हैं, वह भी हमें लिखें.

संपर्क-सूत्र: editor@SMEsamadhan.com

About SMEsamadhan

Check Also

राष्ट्रीय एकीकृत लॉजिस्टिक्स योजना पर कार्यशाला आयोजित

लॉजिस्टिक्स प्रदर्शन सूचकांक विश्व बैंक के लॉजिस्टिक्स प्रदर्शन सूचकांक में भारत की रैंकिंग में उल्लेखनीय …